भिलाई में जमातियों की थोक बरामदगी

0

छुपाई इज्तिमा में शामिल होने की बात

दुर्ग। जिले के भिलाई क्षेत्र में छुपे हुए जमातियों एक और खेप पकड़ में आई है। भिलाई की सुपेला पुलिस को इसकी जानकारी मिली तो रातभर इनके बारे में पतासाजी की जाती रही। अंतत: इन्हें रात में ही खोज लिया गया, ये सभी लोग भिलाई के ही रहने वाले हैं, लेकिन इन्होंनेइज्तिमा में शामिल होने की जानकारी प्रशासन को नहीं दी थी। पुलिस ने इन सभी को अपने कब्जे में लेकर जानकारी स्वास्थ्य विभाग को दे दी और सभी को होम आइसोलेशन में रखवाया।

बता दें कि भिलाई के सुपेला, फरीद नगर और जामुल क्षेत्र में रहने वाले 16 जमाती बीती 22 जनवरी को ओडिशा के भुवनेश्वर स्थित नूरानी मस्जिद में आयोजित इज्तिमा में शामिल होने के लिए गए थे। वहां से वे सभी पांच मार्च को वापस लौटे। रामनगर बघवा मंदिर के पास उमर ब्रदर्स नाम की दर्जी की दुकान चलाने वाले हफ्जुल रहमान के साथ जामुल निवासी सैय्यद, निजामी चौक फरीद निवासी नासिर, इस्लाम नगर निवासी हुजैफा, लक्ष्मी नगर निवासी सज्जाा, कैलाश नगर हाउसिंग बोर्ड निवासी अरसद व जुनैद और बोरा लाइन सुपेला निवासी इमरान समेत 16 लोग वहां गए थे।

Read This Also – हमीदिया की मृत्युदर पर सीएम नाराज

जब तब्लीगी जमात से जुड़े लोगों के बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद पुलिस ने जिले में ऐसे लोगों की पतासाजी शुरू की थी, जो हाल ही में जमात से जुड़ी किसी तकरीर में शामिल हुए थे। मुनादी कराए जाने के बाद भी ये लोग सामने नहीं आए थे। पुलिस को जब इनके बारे में जानकारी हुई तो पुलिस ने इन्हें खोजा और स्वास्थ्य विभाग को जानकारी दी। जानकारी मिली है कि 40 दिवसीय इज्तिमा के दौरान दिल्ली के तब्लीगी मरकज के जमातियों ने भी तीन दिन तक वहां पर तकरीर की थी। उनकी तकरीर में सैकड़ों की संख्या में लोग शामिल हुए थे। भिलाई के लोग भी वहां सैकड़ों लोगों से मिले थे। इससे भी कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा बना रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here