लॉकडाउन के बीच बाल विवाह की कोशिश

0

पुलिस बल ने आयोजन स्थल पर पहुंचकर बाल विवाह रुकवाया

सागर। रविवार को अक्षय तृतीया के मौके पर जिले अंतर्गत ग्राम सांधी में होने वाले बाल विवाह की सूचना जैसे ही एकीकृत महिला बाल विकास कार्यालय बड़वारा के परियोजना अधिकारी रविशंकर पांडेय को प्राप्त हुई उन्होंने मामले की गम्भीरता को समझते हुए त्वरित संज्ञान में लेते हुए तत्काल पुलिस बल का सहयोग लेकर शाम 7 बजे ग्राम सांघी मैं रजक परिवार में होने वाले बाल विवाह के आयोजन स्थल पर पहुंचकर बाल विवाह को रुकवाया। जानकारी के अनुसार लडक़ा हीरापुर कौडिय़ा तहसील कटनी का रहने वाला है। लडक़ी ग्राम सांघी तहसील बड़वारा की निवासी है। लडक़ी की जन्म तिथि 13-07-2003 है।

अंकसूची के आधार पर लडक़ी नाबालिग निकली। लडक़ी की मां एवम लडक़ा को मौके पर जाकर रात 8.35 पर समझाइश दी गई। साथ ही यह भी बताया गया कि 18 वर्ष से कम उम्र की लडक़ी और 21 वर्ष से कम उम्र का लडक़े का विवाह बाल विवाह निषेध अधिनियम के तहत कानूनन अपराध है और ऐसा करने पर जेल हो सकती है। दोनों पक्षों को कानूनी नियमो की जानकारी दी गयी। दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हो गए कि लडक़ी के 18 वर्ष होने पर ही उसकी शादी की जाएगी यदि शादी की उम्र बालिक होने के पूर्व कर दी जाती है तो हम कानून के मुताबिक सजा के पात्र हैं। पंचनामा उपस्थित जनों के समक्ष बनाया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here