भोपाल के होटल वर्मन में चल रहे सेक्स रैकेट का भण्डाफोड़

1
भ्रष्ट अधिकारियों पर नकेल कसना अब मुश्किल

रातीबड़ इलाके में चल रहा रहा था गोरखधंधा, सेक्स के साथ परोसी जा रही थी शराब

रातीबड़ पुलिस भोपाल ने आज सुबह होटल वर्मन में चल रहे सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ कर पांच युवतियां समेत करीब 14 लोगों को गिरफ्तार किया है। सेक्स के साथ होटल में शराब भी परोसी जा रही थी। भोपाल पुलिस ने इस मामले में आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस होटल के सीसीटीवी फुटेज भी खंगाल रही है ताकि छुपे हुए चेहरे सामने आ सकें।

शब्दघोष के फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

भोपाल। टीआई सुधेश तिवारी के मुताबिक मुखबिर से सूचना मिली थी कि होटल वर्मन में सेक्स रैकेट का कारोबार चल रहा है। सूचना मिलते ही पुलिस ने होटल में दबिश दी। जहां पुलिस को पांच युवतियां मिली। साथ ही नौ युवक मिले और वह शराब पीते हुए मिले थे। पकड़े गए आरोपियों ने बताया कि वह सेक्स करने के लिए पैसे देकर होटल में आए थे। पकड़ी गई युवतियां दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, दिल्ली और दूसरे राज्यों की रहने वाली हैं।

जबकि युवकों से पूछताछ की जा रही है। पुलिस ने होटल से भारी मात्रा में शराब भी जब्त की है। पुलिस का कहना है इस मामले में होटल के मालिक और कर्मचारियों को भी आरोपी बनाया जा रहा है। बताया जाता है कि युवतियों को कांटेक्ट बेस भी होटल में काम पर रखा गया था। पुलिस का दावा है जल्द ही इस मामले में कुछ ओर लोगों को भी गिरफ्तार किया जाएगा। क्योंकि युवतियों ने ओर भी लोगों के नाम बताए हैं।

पुलिस ने युवक और युवतियों के मोबाइल फोन भी जब्त कर लिए हैं। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है। पुलिस वर्मन होटल को लेकर छानबीन कर रही है कि कितने लोग यहां रेग्युलर कस्टमर के रूप में आते थे। गौरतलब है कि इसके पहले भी शहर के कई होटलों में यह धंधा पकड़ा जा चुका है। लेकिन इसके बाद भी इस पर अंकुश नहीं लग पा रहा है। शहर के लिंक रोड, चिनार पार्क इलाका, हमीदिया रोड समेत कई सड़कें ऐसी हैं जहां ऐसे अस्वच्छ कार्य होते रहते हैं।

अन्य महत्वपूर्ण खबरें

1 COMMENT

  1. प्रणाम 🙏

    संपादक महोदय

    मेरा नाम विश्व प्रताप गर्ग है और मेरे सहकर्मी देवेन्द्र परमार भगवान शिव के महायोगी स्वरूप भगवान गुरू गोरखनाथ के अनुयायी हैं और आपके पाठक वर्ग हैं ।

    कोरोनाकाल में सामाजिक दूरी के मंत्र को ये जिस्म के दलाल धता बता रहे हैं और जो अनैतिक तो है ही अवैध भी है। बहरहाल “रातीबड़ इलाके में चल रहा अवैध धंधा” उचित वाक्य है।

    भगवान शिव महायोगी स्वरूप में भगवान “गुरू गोरखनाथ” होते हैं।भगवान गुरू “गोरख”जैसे पवित्र कल्याणकारी नाम को किसी घटिया धंधे से जोड़ने से लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचती है और शिव तो सदैव कल्याण ही करते हैं कोई धंधा नहीं।

    ” गोरख-धंधा” शब्द अनुचित है और एक निम्न श्रेणी की उपहासात्मक अवमाननापूर्ण गरिमाहीन संज्ञा है जो प्रयोग में नहीं होनी चाहिए। आजकल इस शब्द का प्रयोग बहुतायत में बिना इसके संवेदनशील पहलू को जाने हो रहा है। सर request है इस पहलू का भी संज्ञान लें 🙏

    अधिक जानकारी के लिए आप इन लिंक पर विजिट भी कर सकते हैं

    कुछ शब्द हैं जो आप प्रचुरता से प्रयोग कर सकते हैं जैसे अवैध धंधा /अनैतिक धंधा /भ्रष्टाचार /ठगधंधा /घपला /गोलमाल /घोटाला /गडबडघोटाला /धांधली आदि।

    कृप्या एक विज्ञप्ति जारी कर सभी साथी रिपोर्टिंग टीम को इस पहलू की ओर भविष्य में भी सचेत करें तो आपकी ज्वलंत पत्रकारिता उम्दा ही प्रतीत होगी और पाठकगण भी एक जुडाव महसूस कर पाएंगे।

    अलख निरंजन!!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here