कोरोना क्राईसिस : कैपिटल मॉल में ग्राहकों की गिरावट जारी

0
कोरोना क्राईसिस : कैपिटल मॉल में ग्राहकों की गिरावट जारी

दुकानदारों के पास किराया देने के भी पैसे नहीं, खाली कर रहे दुकानें

भोपाल। कोरोना महामारी रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन ने फिलहाल होशंगाबाद रोड स्थित कैपिटल मॉल में15 से अधिक दुकानों को पूरी तरह लॉक कर दिया है। मॉल में किराया देने लायक भी कमाई नहीं होने की उम्मीद में इन लोगों ने दुकानें खाली कर दी हैं। जबकि कुछ तो दूसरी दुकानों पर काम करने को मजबूर हैं। दुकानदारों की सोच है मॉल ओपन होने के बाद शादी का पूरा सीजन निकल गया है।

वहीं अब किराया देने के लिए रुपए नहीं हैं। ऐसे में अगले कुछ माह में व्यापार चलने के आसार नहीं हैं। यही वजह है कि व्यवसायी कैपिटाल मॉल से तेजी से दुकानें खाली कर रहे हैं। इनमें से कुछ ने दूसरी जगह तलाश शुरू कर दी है। मामले में मॉल के कर्ता धर्ता से संपर्क किया तो उन्होंने बताया कि वर्तमान स्थिति समय के हिसाब से अनुकूल हो जाएगी।

दुकानें शहर में खुलीं, लेकिन मॉल नहीं खुला

22 मार्च से 31 जून तक रहे लॉकडाउन के चलते मॉल पूरी तरह से बंद रहा। एक जून से अधिकांश दुकानें शहर में खुलीं, लेकिन मॉल नहीं खुला। लॉकडाउन से प्रभावित हुए व्यापार-व्यवसाय अभी भी पटरी पर नहीं आ पाए हैं। खासकर कैपिटल मॉल में कपड़े व रेडिमेड की दुकानें तो खुल गई हैं, लेकिन ग्राहक नहीं आ रहे हैं। अधिकांश दुकानें किराये की हैं।

शब्दघोष के फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

ग्राहकी नहीं होने से दुकानदार संकट में हैं। किराया नहीं भर पाने से शहर में बडेÞ-बडेÞ ब्रांड्स ने तो दुकानें खाली कर दी हैं। यहां के व्यवसायियों की मानें तो लॉकडाउन के कारण मॉल बंद था। दुकानें अब खुली लेकिन शादी का सीजन खत्म हो गया। ऐसे में व्यापार जम नहीं पा रहा है। यहां का किराया महंगा होने से अब दुकान बदलना पड़ रहा है।

कौन है मॉल का मालिक…

कैपिटल मॉल के असली मालिक कमल नाचानी हैं, जो एक रियल एस्टेट कारोबारी हैं। 2006 में उन्होंने भोपाल में एक कंपनी की शुरुआत की थी। आज वह आधा दर्जन से ज्यादा कंपनियों में डायरेक्टर हैं। इनमें रियल एस्टेट के अलावा एक टेलीकॉम कंपनी है जबकि 2 कंपनियां ट्रेडिंग व करेंसी से संबंधित हैं। जब मॉल पूरी तरह पिट गया तो उन्होंने एक नामी कंपनी क ो मॉल कोलीज दे दिया, जो सी-21 मॉल की जगह अब कैपिटल मॉल से जाना जाता है।

कैपिटल मॉल का अवैध निर्माण भी सामने आया

सी-21 मॉल से बने कैपिटल मॉल का पहले टैक्स का भुगतान न करने पर मालिक को पहले विधिवत भी जारी कि या जा चुका है। लेकिन राशि जमा नहीं होने पर कुर्की का आदेश जारी हो चुका था। साथ ही इस मॉल में निगम की जांच में सामने आया था कि निर्माण संबंधी अनुमतियों के मुकाबले यहां निर्माण भी अधिक पाया गया है। कंपाउंडिंग के लिए किए गए सर्वे में यह निर्माण सामने आया है। वसूली को लेकर निगम सख्त है।

अन्य महत्वपूर्ण खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here