ट्रायल के बिना चीन लगा रहा कोरोना वैक्सीन

0
ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन का ट्रायल रुका

कोरोना फैलाने के बाद अब कर रहा लोगों की जान से खिलवाड़

नईदिल्ली। चीन के एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया था कि चीन की सरकार कुछ चुनिंदा क्षेत्रों में काम करने वालों को जुलाई से वो कोरोना वैक्सीन दे रही है, जिस पर अभी पूरी तरह से मुहर नहीं लगी है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के विज्ञान और तकनीक केंद्र के प्रमुख चेंग चोंगेई ने सरकारी मीडिया संस्था सीसीटीवी से रविवार को कहा था कि सरकार ने सार्स- कोवी-2 वैक्सीन स्वास्थ्य कर्मियों और सीमा पर तैनात अधिकारियों को आपातकालीन इस्तेमाल के तौर पर देने की अनुमति दी थी।

शब्दघोष के फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

चेंग वैक्सीन विकसित करने वाले टास्कफोर्स का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्होंने बाताया कि सात दिनों से चीन में कोई भी स्थानीय संक्रमण का मामला सामने नहीं आया है। सीमा पर काम करने वालों के साथ माना जाता है कि जोखिम ज्यादा है। चीन में यह क्लीनिकल ट्रायल के बाहर वैक्सीन इस्तेमाल करने का यह पहला ऐसा मामला है जिसकी पुष्टि हुई है। इस बात की अभी पूरी जानकारी नहीं है कि कौन सी वैक्सीन दी गई है और कितने लोगों को मिली है।

लेकिन चेंग का कहना है कि यह पूरी तरह कानून का पालन करते हुए किया गया है जिसके तहत गंभीर स्वास्थ्य संकट को देखते हुए गैर-प्रमाणित वैक्सीन के सीमित उपयोग की अनुमति होती है। चेंग ने कहा, हमने एक पूरी योजना की सिरीज तैयार की है जिसमें मेडिकल सहमति पत्र, साइड इफेक्ट मॉनिटरिंग प्लान, बचाव योजना और मुआवजे को लेकर योजना शामिल है ताकि यह निश्चित किया जा सके कि यह आपातकालीन इस्तेमाल पूरी तरह से व्यवस्थित और निगरानी के दायरे में है।

अन्य महत्वपूर्ण खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here